Aakhri Duha
भुत बन गया हु पत्थर का तेरी ही तरह
मेरे मुक़द्दर में होने को और बाकि क्या है

ज़िन्दगी का हर रंग देख चूका हु मैं
तेरे कयिनत में देखने को और बाकि क्या है

ना पलके भीगती है अब तो ना दिल जूमता है
इस ज़िन्दगी में सहने को और बाकि क्या है

जो माँगा था सब कुछ तो मिल गया है
सिवा तेरे अब मिलने को और बाकि क्या है

यह आखरी दुहा है के बुला ले मुझे
अब तुझसे मांगने को और बाकि क्या है

आलम-इ-मदहोशी में सब कुछ तो कह दिया
अब होश में कहने को और बाकि क्या है

------------------------------------------------------------

bhut ban gay hu pathar ka teri hi tarah
mere muqaddar me hone ko aur baki kya hai

zindagi ka har rang dekh chukka hu main
tere kayinat me dekhne ko aur baki kya hai

na palke bheegti hai ab to na dil jhoomta hai
iss zindagi me sehne ko aur baki kya hai

jo manga tha sab kuch to mil gaya hai
siva tere ab milne ko aur baki kya hai

yeh aakri duha hai ke bula le muje
ab tujh se maangne ko aur baki kya hai

aalam-e-madhoshi me sab kuch to keh gaya
ab hosh me kehne ko aur baki kya hai

-Sifar
-------

More on FB Notes
Bookmark and Share
Post Your Comments - srivinay.salian_at_gmail_dot_com